बुधवार, 14 जून 2017

गांधी, चार्ली, चर्चिल और मशीन -1

साल 1936 में जर्मनी ओलंपिक खेलों का मेजबान था। एडोल्फ हिटलर के लिए ये मौका था जब वो दिखा सकता था कि अट्ठारह साल पूर्व पहली आलमी लड़ाई में हार चुका जर्मनी फिर से उठ खड़ा हुआ है। इन खेलों के सहारे वो जर्मनों की शर्मिंदगी को आत्मविश्वास में तब्दील कर डालना चाहता था। उसने टीवी नाम की मशीन का इस्तेमाल किया और पहली बार दुनिया में किसी खेल आयोजन का प्रसारण हुआ। वाकई वो जर्मनी की भव्यता का अद्भुत प्रदर्शन था। इसे समझने के लिए आप चाहें तो हॉलीवुड की मशहूर फिल्म रेस देख सकते हैं। फिल्म एक ऐसे अश्वेत एथलीट पर है जिसका जीतना हिटलर को भाता नहीं लेकिन वो नाज़ी जर्मनी के बड़े खिलाड़ियों को हराकर हिटलर का मान मर्दन करता है। ये वही ओलंपिक था जिसमें ध्यानचंद ने हॉकी स्टिक घुुमाकर हिटलर को सम्मोहित कर डाला था। ऑस्ट्रिया के वियना शहर में साल 1939 को ध्यानचंद की चार हाथ में चार हॉकी स्टिक लिए मूर्ति इसके ही बाद लगी । ठीक इसी दौरान दुनिया में विज्ञान कुलांचे भर रहा था। मशीनें और भी तेज़ हो रही थीं.. ज़्यादा स्मार्ट बन रही थीं। हर देश उत्पादन बढ़ाने के लिए मॉडर्न मशीनें चाहता था। पैसा कमाने की दौड़ में कोई किसी से पीछे नहीं छूटना चाह रहा था। तेज़ दौड़ती कारें.. दोगुनी-तिगुनी रफ्तार से सामान पैदा करते कारखाने.. सब कुछ तेज़ और ज़्यादा के बीच झूल रहा था।
1936 के ओलंपिक में जादू करते ध्यानचंद
पश्चिम से हज़ारों किलोमीटर दूर बैठे गांधी इस दृश्य को देखकर सहमे हुए थे। जो डर वो सालों पहले हिंद स्वराज में व्यक्त कर चुके थे, अब वो हकीकत बनकर सामने खड़ा था। हिंद स्वराज में गांधी ने लिखा था- 'मशीनें यूरोप को उजाड़ने लगी हैं और वहाँ की हवा अब हिंदुस्तान में चल रही है। यंत्र आज की सभ्‍यता की मुख्‍य निशानी है और वह महापाप है, ऐसा मैं तो साफ देख सकता हूँ।' जो वो देख समझ रहे थे उसे ठीक इसी दौरान फिल्मों का सबसे चमकता सितारा चार्ली चैप्लिन भी महसूस करने लगा था। हालांकि वो खुद नई मशीनों के सहारे अपने धंधे का विस्तार कर रहे थे मगर वो भूले नहीं थे कि उनका कल गरीबी की गोद में खेलकर ही दमकने वाला आज बना था। मशीनों के फेर में बढ़ती बेरोज़गारी और साथ ही खिंचते जा रहे काम के घंटे उन्हें परेशान करने लगे थे। टॉल्स्टॉय, इमरसन, रस्किन जैसे चिंतक मशीनों के चंगुल से आज़ाद करके मानवता को प्रकृति की तरफ ले जाना चाहते थे। वो अजब से धर्मसंकट में थे।
दूसरे गोलमेज़ सम्मेलन में गांधीजी, सितंबर,1931
अब मैं ले चलता हूं आपको साल 1931 में। जगह लंदन थी और मौका था दूसरे गोलमेज सम्मेलन का। महात्मा गांधी पहले गोलमेज़ सम्मेलन के नाकामयाब होने के बाद कांग्रेस की तरफ से प्रतिनिधि बनकर आए थे। दक्षिण अफ्रीका से हिंदुस्तान लौटने के बाद वो पहली बार विदेशी दौरे पर थे। वक्त बदल चुका था। दुनिया या तो उनसे प्यार कर रही थी या नफरत.. लेकिन नज़रअंदाज़ अब कोई नहीं कर सकता था। असहयोग आंदोलन के प्रयोग ने अंग्रेज़ों के साथ ही पूरी दुनिया को समझा दिया था कि गांधी नाम का प्रयोगवादी बिना हिंसा किए भी जो हासिल करना चाहता है वो धीरे-धीरे कर रहा है। उस वक्त के वायसराय विलिंगडन तो गांधी के सामने बेहद बेबस थे। उन्होंने अपनी बहन को एक खत लिखा था। उसमें गांधी के बारे में उनकी जो राय थी वो पढ़िए- ''अगर गाँधी न होता तो यह दुनिया वाकई बहुत खूबसूरत होती। वह जो भी कदम उठाता है उसे ईश्वर की प्रेरणा का परिणाम कहता है लेकिन असल में उसके पीछे एक गहरी राजनीतिक चाल होती है। देखता हूँ कि अमेरिकी प्रेस उसको गज़ब का आदमी बताती है लेकिन सच यह है कि हम निहायत अव्यावहारिक , रहस्यवादी और अंधिविश्वासी जनता के बीच रह रहे हैं जो गाँधी को भगवान मान बैठी है।'' भारत की जनता के तत्कालीन भगवान से मिलने के लिए चार्ली चैप्लिन भी उत्साहित थे। वो खुद अपनी फिल्म सिटी लाइट्स का प्रचार करने बचपन के शहर लंदन लौटे थे। उन्हें सुझाव मिला कि गांधी से मिलिए। मौका अच्छा था।
विंस्टन चर्चिल के साथ चार्ली चैप्लिन अक्सर गुफ्तगू करते थे
उससे ठीक कुछ रात पहले चैप्लिन उन विंस्टन चर्चिल और उनके सहयोगियों से डिनर पर मिले थे जिन्हें गांधी फूटी आंख पसंद नहीं था। अधनंगा फकीर कहकर चर्चिल ने ही गांधी का अपमान करने की कोशिश की थी। चैप्लिन अपनी आत्मकथा में लिखते हैं कि- मैंने उन्हें बताया कि मैं गांधी जी से मिलने जा रहा हूं जो इन दिनों लंदन में हैं। "हमने इस व्यक्ति को बहुत झेल लिया है। ब्रैकेन ने कहा,"भूख हड़ताल हो या न हो, उन्हें चाहिये कि वे इन्हें जेल में ही रखें। नहीं तो ये बात पक्की है कि हम भारत को खो बैठेंगे।"
"गांधी को जेल में डालना सबसे आसान हल होगा, अगर ये हर काम करे तो " मैंने टोका, "लेकिन अगर आप एक गांधी को जेल में डालते हैं तो दूसरा गांधी उठ खड़ा होगा और जब तक उन्हें वह मिल नहीं जाता जो वे चाहते हैं वे एक गांधी के बाद दूसरा गांधी पैदा करते रहेंगे।" चर्चिल मेरी तरफ मुड़े और मुस्कुराये,"आप तो अच्छे खासे लेबर सदस्य बन सकते हैं।" ये चर्चिल का तंज था। चर्चिल का ज़िक्र चला है तो लिखता चलूं कि वो भारत पर राज करना इतना ज़रूरी समझते थे कि अप्रैल 1931 में कहा था - The loss of India will be the death blow of the British Empire। गलत नहीं थे चर्चिल। बहरहाल, इस मुलाकात के बाद चार्ली चैप्लिन को गांधी से मिलना था।


क्रमश:


31 टिप्‍पणियां:

  1. उत्सुकता बढा़ दी आपने और विलिंगडन के क्या कहने इसको डर कहते है जो विलिंगडन और चर्चिल समझ चुके थे की भारत उनके हाथ से छिन जायेगा

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हां ठीक एक ही वक्त पर दोनों को आभास था।

      हटाएं
  2. सलीम सरमद14 जून 2017 को 10:47 pm

    Kya baat hai .. likhiye bhai .. aapko bahut padhenge ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप पढ़ेंगे इसकी गारंटी तो मुझे है।

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Baki Europe ki kya condition rahi hogi ???

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रेम जी, जब मैं कई देशों की स्थिति एक ही वक्त पर जांचता हूं तो हतप्रभ रह जाता हूं।

      हटाएं
  5. Ant tak Padhna padega ise shighra pura kare

    उत्तर देंहटाएं
  6. ठाकुर साहब आपने दिल जीत लिया बहुत बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  7. जानकारी से भरा हुआ लेख बहुत शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  8. Very Interesting and useful, machino main aise uljheyhain pichley 22 saalo main, Ithihas ke panney tatolkar achcha laga. Aisa laga Sara Ghatnakram aankhon ke saamney ho raha hai. Churchill ka to Naam Bhi yaad na tha. Shukriya, aap logo ki wajah SE Purana shok padhney ka pura ho jata hai,

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  10. बहुत बढ़िया भाई। अगली कड़ी का इन्तज़ार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्रमशः , के आगे के लेख का इंतज़ार !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आरंभ ने उत्सुकता बढा दी है नितिन भाई....अगली कडी की प्रतीक्षा रहेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. जितना सोचा था, उससे ज़्यादा अच्छा लगा भइया। वो 3 ईडियट्स का डायलॉग याद आ गया 'ज्ञान जहां से भी मिले लपेट लो।'
    अगले पार्ट का इंतजार है ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. Bahot khoob ��
    Gandhi ka prabhav pure vishva pe ek samaan tha ❤
    Lekin aql k andhe log unhe pehle bhi nhi samajh paye the naa hi aaj samajh paate hai...

    उत्तर देंहटाएं
  16. इंतज़ार रहेगा
    बहुत अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  17. सबसे पहले तो शुक्रिया इस पोस्ट के लिए कि मैं ये फैक्ट्स जान पाया..
    1- टीवी नाम की मशीन का इस्तेमाल किया और पहली बार दुनिया में किसी खेल आयोजन का प्रसारण हुआ।
    2- ऑस्ट्रिया के वियना शहर में साल 1939 को ध्यानचंद की चार हाथ में चार हॉकी स्टिक लिए मूर्ति इसके ही बाद लगी।
    3- वायसराय विलिंगडन का अपनी बहन को लिखा वो खत।

    ये बातें पहली बार जानी। अब पोस्ट की अगली कड़ी पढ़े बिना अब रह नहीं सकता, इसलिए अगली कड़ी देखता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं